team banner
ICAR - Directorate of Onion and Garlic Research

 

Onion and garlic are the world famous spice commodities used for flavouring the dishes.  Besides culinary purposes, these are considered as valuable medicinal plants.  The fungicidal and insecticidal properties of garlic are well established.  Dehydrated powder & flakes and paste prepared out of onion and garlic provide rich agro-industrial base for these commodities.

Realizing the importance  of  onion and garlic  in  the country,  ICAR established  National Research Centre for Onion and Garlic in VIII Plan with its headquarter at Nasik in 1994.  However, due to some working constraints, the Centre was shifted to Rajgurunagar on 16 June 1998. Over the years, the centre has created good facilities for field and laboratory work.  The centre has been upgraded to Directorate of Onion and Garlic Research since December 2008. Besides this, an All India Network Project on Onion & Garlic with 28 participating centres all over the country has been established. 

LATEST NEWS

 

Onion variety “Bhima Red” licensed

Onion variety “Bhima Red” has been licensed by Directorate of Onion and Garlic Research (DOGR) to M/s. Safalmantra Agro Farms Private Limited (SAFPL), Navi Mumbai.  A Memorandum of Understanding in this regard was signed by the Directorate with SAFPL on 12/11/2014.  SAFPL is all women lead organization, in the business of producing and marketing sustainable agro-products.  As per MoU, DOGR has extended a non-exclusive license to SAFPL for seed production and distribution of Bhima Red.  Bhima Red is a high yielding onion variety recommended for cultivation in kharif season in Punjab, Haryana, Delhi, Rajasthan, Gujarat, Maharashtra, Karnataka and Tamilnadu, in late kharif season in Gujarat, Karnataka and Maharashtra and for rabi in Madhya Pradesh and Maharashtra.  It matures in 105-110 days after transplanting in kharif season and in 110-120 days after transplanting in late kharif and rabi seasons. The MoU will promote the cultivation of this variety by ensuring the better availability of quality seed to the farmers.  

सतर्कता जागरूकता सप्‍ताह का आयोजन

केन्‍द्रीय सतर्कता आयोग, भारत सरकार, नई दिल्‍ली और भा. कृ. अनु. परिषद के आदेशानुसार इस वर्ष भी सतर्कता जागरूकता सप्‍ताह दिनांक 27 अक्‍टूबर 2014 से 01 नवम्‍बर 2014 तक मनाया गया ।  इस वर्ष सतर्कता सप्‍ताह का विषय था ‘‘भ्रष्‍टाचार का मुकाबला – प्रोद्योगिकी एक संबल के रूप में’’ । दिनांक  27 अक्‍टूबर 2014 को निदेशालय के समस्‍त कार्मिको ने प्रात: 11 बजे सभा कक्ष में लोक सेवा, सत्‍यनिष्‍ठा, ईमानदारी, पारदर्शिता एवं अपने संस्‍थान को भ्रष्‍टाचर रहित बनाए रखने के लिए प्रतिज्ञा ली ।  जिसके प्रचार प्रसार के लिए निदेशालय के मुख्‍य प्रवेश द्वार पर बैनर एवं सूचनापट्ट पर परिपत्रो द्वारा जागरूकता लाने का प्रयास किया गया ।  

सतर्कता सप्‍ताह के समापन समारोह का कार्यक्रम दिनांक 01 नवम्‍बर 2014 को अपरान्‍ह 3.30 बजे रखा गया । जिसमें निदेशालय के सतर्कता अधिकारी एवं प्रभारी निदेशक, डॉ. विजय महाजन, प्रशासनिक अधिकारी श्री सुबोध नीरज एवं संस्‍थान के कार्मिकों ने अपने विचार व्‍यक्‍त किये, जिसमें विशेष रूप से समस्‍त कार्मिको से आवहान किया कि सतर्कता सप्‍ताह को केवल औपचारिकता मात्र न माना जाएं बल्कि अपने वास्‍तविक जीवन में आत्‍म सात किया जाना चाहिए एवं भ्रष्‍टाचार का मुकाबला – प्रोद्योगिकी एक संबल के रूप में’’ किया जाना चाहिए जिससे हमारे द्वारा किये गये कार्यो की पारदर्शिता झलकती रहे । प्रभारी निदेशक महोदय के विचारों के साथ ही सतर्कता जागरूकता सप्‍ताह का समापन सम्‍पन्‍न हुआ ।

 

 “स्‍वच्‍छ भारत अभियान” at DOGR

           

The following activities are being implemented under cleanliness drive from 25/09/2014 by DOGR.

(1)  Message “करेंगे महात्‍मा गॉंधी का सपना साकार, कार्यान्वित करेंगे स्‍वच्‍छ भारत अभियानका विचार has been uploaded on the home page of DOGR website.

(2)  प्याज एवं लहसुन अनुसंधान निदेशालय, राजगुरुनगर में 2 अक्टूबर 2014 को स्वच्छ भारत अभियानसमारोह का आयोजन किया गया । इस अवसर पर सुबह 9 बजे निदेशालय के सभी कर्मिक एकत्रित हुए तथा निदेशक डा. जय गोपाल ने सम्बोधित किया । राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्मतिथि के शुभ अवसर पर सफाई के प्रति गांधीजी के समर्पण का स्मरण दिलाया । उन्होने सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों को आह्वान करते हुए कहा कि वे स्वेच्छा से इस अभियान में योगदान दें । उन्होंने यह भी कहा कि निदेशालय परिसर, आवासीय एवं कार्यालय तथा आस-पास के स्थान में स्वच्छता बनाए रखना हम सभी का दायित्व है । इस अभियान के लिए हमें अन्य लोगों को भी जागरुक करना होगा। सम्पदा अधिकारी डा. अमर जीत गुप्ता ने भारत स्वच्छता अभियान के तहद निदेशालय की भागीदारी एवं योजनाओं की जानकारी दी । इस अवसर पर 9.45 बजे प्रशासनिक अधिकारी श्री सुबोध नीरज द्वारा निदेशालय में कार्यरत सभी वैज्ञानिकों, अधिकारियों एवं कर्मचारियों को स्वच्छता शपथ दिलाई । इसके बाद निदेशक महोदय तथा निदेशालय के समस्त कर्मियों द्वारा निदेशालय के परिसर, रास्तें एवं मुख्य द्वार के बाहर राष्ट्रीय राजमार्ग के दोनों तरफ सफाई की गई । निदेशक महोदय ने सभी कर्मिकों का स्वच्छता अभियान में बढ़-चढ़ कर भाग लेने पर धन्यवाद व्यक्त किया । उन्होंने कहा कि प्रत्येक शनिवार को कम से कम दो घंटे श्रमदान करके स्वच्छता के संकल्प को चरितार्थ करना है तथा पूरे वर्ष इस कार्यक्रम को पूर्ण उत्साह के साथ चलाए जाने के लिए सहयोग मांगा ।   

(3)  Every Saturday from 4:00 PM onward DOGR staff undertakes community work for cleaning office, residential area and other places.

(4)  Display boards to spread the cleanliness messages have been fixed at various locations in the campus.

      These activities are being undertaken as per decisions taken unanimously by the DOGR staff in the meeting on 25/09/2014, chaired by the Director, DOGR.


 

This website belongs to ICAR - Directorate of Onion and Garlic Research, Indian Council of Agricultural Research, an autonomous organization under the Department of Agricultural Research and Education, Ministry of Agriculture, Government of India Contact | RTI | Disclaimer | Privacy Statement
This website is designed by Sh. Shaikh H.C,Sr. Technical Officer, and Dr. S. Anandhan, Sr. Scientist, DOGR, Rajgurunagar